सूरजमुखी की खेती की ओर बढ़ रहा है हरियाणा के किसानों का रुझान, कम लागत में ज्यादा मुनाफा

Casino

अंबाला | अब हरियाणा में किसानों का रुझान परंपरागत खेती से हटकर के मुनाफ़े वाली खेती की तरफ बढ़ रहा है. अंबाला में इसका अच्छा खासा उदाहरण देखने को मिल सकता है. अब अंबाला सूरजमुखी की खेती का गढ़ बनता जा रहा है. इसकी वजह है कम लागत में बेहतर मुनाफा कमाना. दरअसल द्विनसिटी में किसानों का रुझान सूरजमुखी की खेती की तरफ बढ़ता जा रहा है. अंबाला- दिल्ली नेशनल हाईवे के किनारे शाहपुर के निकट करीब 100 करनाल में सूरजमुखी की खेती हो रही है.

surajmukhi flower

हाईवे से गुज़रने वाले वाहन में अगर आप की नजर इन खेतों की तरफ पड़ती है तो रुककर सेल्फी लेने से खुद को रोक नहीं पाएंगे. सूरजमुखी की खेती शुरू करने का माकूल समय फरवरी के प्रथम सप्ताह होता है इसके बाद सूरजमुखी की फसल तैयार होने में 90 से अधिक दिन का समय लगता है.

किसानों के खेती करते ही सरकार की तरफ से ऐसे किसानों को चिन्हित करके उनकी फसल खरीदने की औपचारिकता पूरी करते हैं. किसानों की मानें तो एक कनाल खेत में करीब एक क्विंटल सूरजमुखी की फसल तैयार होती है. अंबाला जिले के विभिन्न हिस्सों में 200 से अधिक किसानों ने सूरजमुखी की खेती शुरू कर दी है. सरकार किसानों से एक क्विंटल फसल के एवज में ₹5600 भुगतान करने का रैंक तय किया है. यह धनराशि सीधे किसानों के खाते में पहुंचेगी.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में खुलेंगे 2000 हर- हित स्टोर्स, मुख्यमंत्री 2 अगस्त को पंचकूला में करेंगे उद्घाटन

सूरज मुखी एक महत्वपूर्ण तिलहनी फसल है बेहतर मुनाफा देने वाली इस फसल को नकदी खेती के रूप में भी माना जाता है. सूरजमुखी की खेती देश में पहली बार साल 1969 में उत्तराखंड के पंतनगर में की गई थी. यह ऐसी फसल है जिसपर प्रकाश का कोई असर नहीं पड़ता, यानी ये फोटो इनसेंसिटिव है. हम इसे खरीफ, रवि और जायद तीनों मौसमों में उगा सकते हैं. इसके बीजों में 45 से 50 फीसदी तक तेल पाया जाता है. इसके तेल में एक खास तत्व है, लिनोलिइक अम्ल पाया जाता है. लिनोलिइक शरीर में कोलेस्ट्रॉल को बढ़ने नहीं देता है. अपनी खूबियों की वजह से इसका तेल दिल के मरीजों के लिए दवा की तरह काम करता है.

यह भी पढ़े -   PM मोदी ने 'Mann ki Bat' में की एक रेहड़ी वाले की तारीफ, जानें वजह

सूरजमुखी के बीज के फायदे

इसका बीज न केवल स्वादिष्ट होता है बल्कि इन्हें खाने से पोषण भी मिलता है, और यह पेट भरते हैं. सूरजमुखी के बीज आजकल सभी फूड स्टार्स में आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं. सूरजमुखी के बीजों को खाने से हार्ट अटैक का खतरा कम होता है कोलेस्ट्रॉल घटता है त्वचा में निखार आता है तथा बालों की ग्रोथ होता है.

सूरजमुखी के तेल के फायदे

सूरजमुखी देखने में जितना खूबसूरत होता है, स्वास्थ्य के लिए उससे कहीं ज्यादा फायदेमंद नजर आता है. इसके फूलों के बीजों में कई औषधीय गुण छिपे होते हैं. दिल को स्वस्थ्य रखने से लेकर ये कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी से बचाव करता है. इसके अलावा सूरजमुखी के तेल का सेवन करने से लिवर सही तरीके से काम करता है. और ऑस्टियोपेरोसिस जैसी हड्डियों की बीमारी भी नहीं होती, यह त्वचा को निखारने के साथ बालों को भी मजबूत बनाता है.

यह भी पढ़े -   हरियाणा के पहलवान ने शरीर पर खाएं इतने हथोड़े कि बन गया विश्व रिकॉर्ड, मिला स्टील मैन का खिताब

बता दें सूरजमुखी देखने में जितना खूबसूरत होता है, स्वास्थ्य के लिए उससे कहीं ज्यादा फायदेमंद नजर आता है. इसके फूलों के बीजों में कई औषधीय गुण छिपे होते हैं. दिल को स्वस्थ्य रखने से लेकर ये कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी से बचाव करता है. इसके अलावा सूरजमुखी के तेल का सेवन करने से लिवर सही तरीके से काम करता है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!