मुश्किल वक्त में FD खत्म किए बिना भी पूरी हो सकती है पैसों की जरूरत, जानें एफडी पर मिलने वाले फायदे

बिजनेस डेस्क | जिंदगी में न जाने कब मुश्किल हालातों से जूझना पड़ जाए. ऐसे वक्त में पैसों की जरूरत पूरी करने के लिए व्यक्ति या तो अपने किसी खास परिचित से उधार मांगेगा या फिर मजबूरी में अपनी फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) को बीच में खत्म करवाना पड़ता है. ऐसे में हम आपको यहां बताते हैं कि ऐसे मुश्किल समय में एफडी को खत्म करवाकर अपनी सेविंग्स को खत्म करने की जरूरत नहीं है बल्कि आप FD पर लोन लेकर अपनी जरुरत को पूरा कर सकते हैं. बता दें कि एफडी पर बैंक कई तरह की सुविधाएं प्रदान करता है. आइए जानते हैं उनके बारे में…

Fixed Deposit FD

90% से 95% तक लोन

ज्यादातर बैंक एफडी की जमा पूंजी पर 90% से 95% तक लोन प्रदान करते हैं. वहीं, ओवरड्राफ्ट की सुविधा उपलब्ध है तो आप जमा राशि पर 90 प्रतिशत तक लोन ले सकते हैं. लोन की इस रकम को सिक्‍योर्ड लोन की श्रेणी में रखा जाता है क्‍योंकि लोन के बदले बैंक उस एफडी को गिरवी रख लेता है. अगर आप टाइम पर लोन नहीं चुका पाते हैं तो तो आपकी एफडी की जमा राशि से उस लोन की रिकवरी कर ली जाएगी. FD पर उठाए गए लोन पर आमतौर पर एफडी की दर से 2% अधिक ब्याज लगता है. लेकिन इसके लिए प्रोसेसिंग फीस नहीं लगती है. ब्‍याज सिर्फ उतनी ही रकम पर लगता है, जितनी रकम उधार के रूप में ली जाती है.

FD पर ये सुविधाएं भी मौजूद

Insurance Cover: डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन की ओर से आपको एफडी पर इंश्‍योरेंस कवर की भी सुविधा दी जाती है. उदाहरणार्थ किन्‍हीं कारणों से बैंक दिवालिया हो जाती है, तो ऐसे में आपको रिटर्न के साथ इंश्‍योरेंस कवर के तहत 5 लाख तक की रकम मिलती है यानि पैसे डूबने की टेंशन नहीं होती.

यह भी पढ़े -   Business Idea: इस बिजनेस से कमा सकते हैं लाखों रुपए महीना, साल भर बनी रहेगी डिमांड

टैक्स बेनिफिट्स: अगर आप 5 साल या उससे ज्‍यादा समय के लिए एफडी करवाते हो, तो आपको आयकर अधिनियम 1961 की धारा 80C के तहत टैक्स छूट क्लेम करने का मौका मिलता है. अगर आप 5 साल से कम की एफडी कराते हैं, तो आपको टैक्‍स देना होगा. इसके अलावा अगर पांच साल में से किसी साल में बैंक से मिला ब्याज 40 हजार रुपए से ज्‍यादा हुआ, तो भी आपको टैक्‍स देना पड़ेगा.

यह भी पढ़े -   Business Idea: इस बिजनेस से कमा सकते हैं लाखों रुपए महीना, साल भर बनी रहेगी डिमांड

Life Insurance: कुछ बैंक ऐसे भी हैं, जो एफडी पर लाइफ इंश्‍योरेंस का भी फायदा देते हैं. ये रकम एफडी की रकम के बराबर होती है. बैंक की ओर से ग्राहकों को ये ऑफर इसलिए दिया जाता है, ताकि वो ज्‍यादा से ज्‍यादा लोगों को एफडी के लिए आकर्षित कर सके. हालांकि इसमें उम्र सीमा भी तय होती है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!