आज तिहाड़ जेल से छूटेंगे पूर्व मुख्यमंत्री OP चौटाला, शिक्षक भर्ती घोटाले में गए थे जेल

Casino

चंडीगढ़ । प्रदेश की राजनीति में नया मोड़ आने वाला है. जेबीटी भर्ती घोटाले में हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री चौधरी ओमप्रकाश चौटाल की सजा पूरी हो गई है. औपचारिक तौर पर ओमप्रकाश चौटाला आज तिहाड़ जेल से रिहा होंगे. ओम प्रकाश चौटाला की स्पेशल रेमिशन मंजूरी कर दी गई है. बता दें ओमप्रकाश चौटाला दिल्ली के तिहाड़ जेल में जेबीटी घोटाला में 10 साल की सजा काट रहे थे. सजा पूरी होने से छह महीने से पहले ही वह जेल से रिहा होंगे. स्पेशल छूट की वजह से सजा छह महीने कम कर दी गई है.

Om Prakash Chautala

पूर्व सीएम ओमप्रकाश चौटाला ने अपनी उम्र और दिव्यांगता के आधार पर जेल से रिहाई की मांग की है. इससे पहले दायर याचिका में चौटाला ने केंद्र सरकार के 18 जुलाई 2018 की अधिसूचना का हवाला दिया था. अधिसूचना के तहत 60 साल से ज्यादा उम्र पार कर चूके पुरुष, 70 फीसदी वाले दिव्यांगों, बच्चे अगर अपनी आदी सजा काट चूके हैं, तो राज्य सरकार इसकी रिहाई पर विचार कर सकती है.

बता दें कि रोहिणी स्थित विशेष सीबीआई जज विनोद कुमार ने अपने फैसले में इंडियन नेशनल लोकदल के प्रमुख ओमप्रकाश चौटाला को घोटाले का मुख्य साजिशकर्ता करार दिया था. वर्ष 1999 से 2000 के दौरान 32 छे जेबीटी शिक्षकों की भर्ती में घोटाले के इस मामले में पूर्व आईएएस संजीव कुमार पूर्व आईएएस विद्याधर मौजूदा विधायक शेर सिंह बड़शामी और 16 महिला अधिकारियों को भी दोषी करार दिया था. संजीव कुमार ने सबसे पहले इस घोटाले का खुलासा किया था, लेकिन सीबीआई जांच में वह खुद भी इसमें लिप्त पाए गए.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में 20 हज़ार परिवारों को मिलेंगे सस्ते मकान, तेज़ी से चल रहा निर्माण कार्य

विद्याधर तब चौटाला के ओएसडी थे, जबकि बड़शामी उनके राजनीतिक सलाहकार थे. संजीव कुमार ने वर्ष 2003 में सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की थी. सीबीआई ने वर्ष 2004 में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद जेबीटी मामले की जांच शुरू की थी. जांच एजेंसी ने 2008 में कुल 62 आरोपियों के खिलाफ़ आरोपपत्र दाखिल किया था. सीबीआई अदालत ने जुलाई 2010 में आरोप तय किए थे. मामले की सुनवाई करीब ढ़ाई साल पहले सीबीआई अदालत में शुरू हुई थी.

यह भी पढ़े -   हरियाणा की IPS अधिकारी भारती अरोड़ा ने बाकी जीवन कृष्ण भक्ति में बिताने का लिया फैसला, सरकार से मांगी स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति

बता दें हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला शिक्षक भर्ती घोटाले के मामले में जेल गए थे. जिनकी आज 9 साल 6 महीने सज़ा काटने के बाद रिहाई होने जा रही है. सजा 10 साल की हुई थी, पर स्पेशल छूट के तहत उन्हें 6 महीने पहले ही छोड़ा जा रहा है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!