हरियाणा कर रहा चंडीगढ़ में अलग विधानसभा बनाने की तैयारियां, उधर पंजाब में शुरू हुई सियासी बयानबाजी

चंडीगढ़ | हरियाणा ने सिटी ब्यूटीफुल चंडीगढ़ में अलग विधानसभा भवन बनाने की तैयारी पूरी तरह से तेज कर दी है. हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता ने पंजाब के राज्यपाल बीएल पुरोहित से मुलाकात कर इस बारे में चर्चा की. उन्होंने कहा कि अगर पंजाब भी चंडीगढ़ में अलग विधानसभा के लिए जमीन मांगे तो हमें कोई आपत्ति नहीं है.

Haryana Vidhan Sabha

सचिव द्वारा लिखे पत्र पर हुई चर्चा

हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता ने आज पंजाब के राज्यपाल व चंडीगढ़ के प्रशासक बनवारीलाल पुरोहित से शिष्टाचार के नाते मुलाकात की लेकिन इस बैठक में भी उन्होंने हरियाणा विधानसभा के नए भवन के निर्माण को लेकर चर्चा की. ज्ञानचंद गुप्ता ने पंजाब के राज्यपाल व चंडीगढ़ के प्रशासक बनवारीलाल पुरोहित से मुलाकात के बाद कहा कि आज पंजाब के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित से उनकी अनौपचारिक मुलाकात हुई. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि विधानसभा भवन के लिए भूमि आवंटन को लेकर हरियाणा के मुख्य सचिव द्वारा लिखे गए पत्र को लेकर भी चर्चा हुई थी.

ज्ञानचंद गुप्ता ने जानकारी देते हुए बताया कि उन्होंने राज्यपाल से अनुरोध किया है कि हरियाणा को विधानसभा के लिए जल्द जमीन दी जाए. उन्होंने कहा कि चंडीगढ़ के प्रशासक और पंजाब के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने कहा है कि वे इस पर जल्द विचार करेंगे. इतना ही नहीं ज्ञान चंद गुप्ता ने कहा कि अगर पंजाबी विधानसभा भवन के लिए जमीन मांगते हैं तो उन्हें कोई आपत्ति नहीं है.

यह भी पढ़े -   पुराने वाहनों को नष्ट कर नया खरीदने पर मिलेगी छूट, जानें हरियाणा सरकार की नई पॉलिसी

सियासी बयानबाजी हो रही तेज

दोनों की इस मुलाकात के बाद पंजाब के नेताओं की ओर से जिस तरह के बयान आ रहे हैं उससे लगता है कि यह मामला फिर तूल पकड़ेगा. यह एक बार फिर राजनीतिक मुद्दा बनने जा रहा है. अकाली दल के नेता विक्रम मजीठिया ने कहा कि चंडीगढ़ पर पंजाब का अधिकार है. इसलिए हरियाणा को चंडीगढ़ में अलग विधानसभा बनाने के लिए जमीन नहीं दी जानी चाहि.

अगर हरियाणा को जमीन दी जाती है तो हम इसका पुरजोर विरोध करेंगे और रोजाना विरोध करेंगे और हरियाणा विधानसभा नहीं बनने देंगे. कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता और पंजाब विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष प्रताप सिंह बाजवा ने भी इस मुद्दे पर कुछ ऐसा ही कहा है. उनका कहना है कि चंडीगढ़ पर पंजाब का हक है और चंडीगढ़ में हरियाणा की नई विधानसभा बनाने के लिए जमीन नहीं दी जा सकती. इतना ही नहीं उन्होंने यह भी कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो वह इसका विरोध भी दर्ज कराएंगे.

यह भी पढ़े -   HPSC के माध्यम से की जाएगी 205 आयुष डॉक्टरों की भर्ती, मुख्यमंत्री ने किया एलान

ऐसी हरकतें नहीं करनी चाहिए: वडिंग

अमरिंदर सिंह राजा वडिंग ने पंजाब के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित से मांग की कि मैं राज्यपाल से अनुरोध करता हूं कि यह पंजाब के अधिकारों पर सीधी लूट है. उन्होंने कहा कि पंजाब भी चंडीगढ़ का हिस्सा है और बहुत पहले राजीव लोंगोवाल समझौते में तय हो गया था कि चंडीगढ़ पंजाब का है. हरियाणा कई सालों से दावा कर रहा है कि चंडीगढ़ हमारा है. उन्होंने कहा कि इस तरह के हथकंडे नहीं अपनाए जाने चाहिए और न ही ऐसी हरकतें करनी चाहिए क्योंकि इससे दिल्ली और पंजाब के बीच दूरियां और बढ़ेंगी.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!