हरियाणा में पर्वतारोहण योजना शुरू, पहाड़ पर चढ़ने वाले स्कूली विद्यार्थियों को मिलेंगे 5 लाख

चंडीगढ़ | हरियाणा राज्य खेलों का हब है. प्रदेश के खिलाड़ियों ने राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शानदार प्रदर्शन कर देश को कई बार गौरवान्वित होने का अवसर दिया है. राज्य के भीतर खेलों को और अधिक बढ़ावा देने के लिए मनोहर सरकार द्वारा कई नए कदम उठाए जा रहे हैं. खेलों के साथ-साथ प्रदेश सरकार ने पर्वतारोहण को भी बढ़ावा देने के लिए एक नई योजना की शुरुआत की है.

CM

बीते गुरुवार को हरियाणा के मुख्यमंत्री ने स्कूली विद्यार्थियों के पर्वतारोहण दल को रवाना किया. इस दौरान मुख्यमंत्री ने बताया कि राज्य के स्कूली छात्रों के लिए पर्वतारोहण की योजना बनाई जाएगी. इसके तहत जो विद्यार्थी पहाड़ों की सबसे ऊंची 10 चोटियों में से किसी एक की चढ़ाई करेगा उसे ₹5 लाख रु की राशि प्रदान की जाएगी.

यह भी पढ़े -   अनिल विज नें जारी की, सीरो सर्वे के तीसरे राउंड की रिपोर्ट

मुख्यमंत्री ने कहा कि आजादी के 75वें अमृत महोत्सव की श्रंखला में राज्य के विभिन्न सरकारी स्कूलों के 75 विद्यार्थियों व अध्यापकों का दल हिमाचल प्रदेश के लाहौल में 6111 मीटर की ऊंचाई पर स्थित माउंट यूनम पर पर्वतारोहण करने जा रहा है. दल में 25 दिव्यांग छात्र व अध्यापक भी जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि हरियाणा देश का पहला राज्य है जो स्पोर्टस हब के रूप में जाना जाता है. हरियाणा के खिलाड़ी ओलम्पिक एवं पैरालम्पिक में सबसे ज्यादा मेडल लाए हैं. इसलिए स्पोर्टस की तर्ज पर पर्वतारोहण करने वालों के लिए भी योजना बनाई जाएगी.

गौरतलब बात यह है कि स्कूली विद्यार्थियों और अध्यापकों के इस पर्वतारोही दल में 25 विकलांग विद्यार्थी भी शामिल है. मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने विकलांग पर्वतारोहियों की सराहना करते हुए कहा कि मैं पर्वतारोहण में जा रहे दिव्यांग बच्चों की हिम्मत और साहस को दाद देता हूं जो पहली बार साहसिक गतिविधियों में भाग ले रहे हैं. ये विद्यार्थी विश्व रिकार्ड बनाकर देश व प्रदेश का नाम रोशन करेंगे.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!