खुशखबरी: ड्राइविंग लाइसेंस के लिए नहीं देना होगा टेस्ट, सरकार ने जुलाई से बदलें नियम, जानें

Casino

नई दिल्ली । अगर आप ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के इच्छुक हैं तो अब आपको इसके लिए ड्राइविंग टेस्ट देने की आवश्यकता नहीं होगी, क्योंकि सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने ड्राइविंग लाइसेंस के नियमों में एक जुलाई से बड़ा बदलाव किया है. जिसके पश्चात आपको आरटीओ ऑफिस जाकर ड्राइविंग टेस्ट देने की जरूरत नहीं पड़ेगी. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अभी तक ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के इच्छुक अभ्यर्थियों को ड्राइविंग टेस्ट देना अनिवार्य था, लेकिन एक जुलाई से बदलें नियमों के बाद अब ऐसा करने की जरूरत नहीं होगी. आईए जानते हैं कि अब ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए किस प्रक्रिया से गुजरना होगा….

यह भी पढ़े -   बिग बॉस फेम नेत्री सोनाली फोगाट को आया फिर गुस्सा, हिसार के विभाग में हुआ हाई वोल्टेज ड्रामा

latest driver job 2021

मान्यता प्राप्त ड्राइविंग सेंटर से लेनी होगी ट्रेनिंग

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय के नियमानुसार अगर आपने मान्यता प्राप्त ड्राइविंग सेंटर से ट्रेनिंग ली है तो आपको ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आरटीओ ऑफिस जाकर टेस्ट देने की जरूरत नहीं होगी. वहीं केन्द्र सरकार ने हाल ही में राज्यवार ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर को मान्यता देना शुरू कर दिया है. जहां आप आसानी से टू-व्हीलर और फोर- व्हीलर चलाने का प्रशिक्षण ले सकते हैं.

कितने दिन लेनी होगी ट्रेनिंग

नए नियमों के मुताबिक आपको ड्राइविंग सेंटर पर हल्के मोटर व्हीकल कोर्स के लिए चार सप्ताह के दौरान 29 घंटे ड्राइविंग करनी होगी. इसके साथ ही चार सप्ताह यानि 28 दिनों में आपको ड्राइविंग सीखनी भी होंगी. अगर ड्राइविंग सेंटर से आपकी ड्राइविंग को हरी झंडी मिलती है तो फिर आपको ड्राइविंग लाइसेंस के लिए कोई और टेस्ट देने की आवश्यकता नहीं होगी. इसके अतिरिक्त हैवी मोटर व्हीकल यानि भारी वाहन सीखने का टाइम छः सप्ताह में 38 घंटे रहेगा. इसमें थ्योरी और प्रैक्टिकल भी शामिल होगा. इसके अतिरिक्त ड्राइवरों को अन्य सड़क संबंधी आवश्यक नियमों के साथ ही नैतिक और विनम्र व्यवहार के बारे में कुछ बुनियादी पहलू भी सिखाएं जाएंगे.

यह भी पढ़े -   रोडवेज बसों का नहीं बढ़ेगा किराया, परिवहन मंत्री ने दी जानकारी

ट्रेनिंग सेंटर के लिए बुनियादी जरूरत

नए नियमानुसार ऑथेराइजड ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर उच्च गुणवत्ता वाली ट्रेनिंग देने के लिए सिमुलेटर के साथ-2 डेडिकेटिड ड्राइविंग टेस्ट ट्रैक से लैस होंगे. यहां पर आवेदकों को ड्राइविंग के बारे में सम्पूर्ण ट्रेनिंग दी जाएगी ताकि वो ड्राइविंग के हर एक बारीक पहलुओं से अवगत हो सकें और सड़क पर बेहतर तरीके से ड्राइव कर सकें.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!