धरती से तीन दिन दूर मुसीबत: पृथ्वी के करीब से गुजरेगा ताजमहल से तीन गुना बड़ा उल्का पिंड

Casino

नई दिल्ली ।  स्पेस इन दिनों सुर्खियों में है. वजह है वर्जिन के फाउंडर रिचर्ड ब्रैनसन और अमेजॉन के फाउंडर जेफ बेजोस का स्पेस टूरिज्म. इस बीच अंतरिक्ष से एक ओर हैरान करने वाली खबर सामने आई है. नासा ने कहा कि 24 जुलाई को पृथ्वी के नजदीक से एक उल्का पिंड गुजरेगा. आईए जानते हैं इस दिलचस्प घटना से जुड़ी कुछ चीजें….

Antriksh Space Earth
कौन सा उल्टा पिंड है

नासा ने इस उल्का पिंड का नाम ‘2008 GO20 ‘ दिया है. ये अपोलो क्लास एस्टेरॉयड है. इसका आकार स्टेडियम जितना यानि ताजमहल से करीब तीन गुना बड़ा है. ये पृथ्वी की तरफ 18 हजार मील प्रति घंटे की रफ्तार से धरती की ओर बढ़ रहा है.

यह भी पढ़े -   सीएम के दौरे पर कांग्रेसी विधायक चिरंजीव राव की एंट्री, राव बोले-हकीकत का आईना दिखाना

धरती के कितने करीब से गुजरेगा एस्टेरॉयड

नासा का कहना है कि 24 जुलाई को जब ये एस्टेरॉयड गुजरेगा तो पृथ्वी से इसकी दूरी 37 लाख 18 हजार 232 मील होंगी. पृथ्वी से इसकी दूरी को ऐसे समझा जा सकता है कि चंद्रमा हमारी सतह से 2 लाख 38 हजार 606 मील दूर है. यानि ये चांद से भी बहुत ज्यादा दूरी से गुजरेगा.

क्या एस्टेरॉयड के टकराने का खतरा है ?

नासा के मुताबिक तो नहीं. उन्होंने कहा कि घबराने की कोई बात नहीं है. किसी भी सूरत में इस उल्का पिंड के 26 लाख 5 हजार 509 मील से ज्यादा करीब आने की आंशका नहीं है. हालांकि इस स्थिति में भी नासा ने इसे NEO ऑब्जेक्ट यानि पृथ्वी के करीब का ऑब्जेक्ट कहां है. चीन ने प्रपोजल रखा है कि अगर इस उल्कापिंड के पृथ्वी से टकराने का खतरा बढ़ता है तो अंतरिक्ष में बड़े रॉकेट भेज दिए जाएं ताकि इसका रास्ता बदल जाएं.

यह भी पढ़े -   मुरथल के ढाबों पर अब गैरकानूनी कार्य करने वालों की खैर नहीं, पुलिस ने तैयार की विशेष रणनीति

क्या केवल यहीं एस्टेरॉयड है या और भी हैं?

नासा के मुताबिक 24 जुलाई तक पृथ्वी के आसपास से 2021 NE,2019 AT6, 2019 NB7 और 2014 BP 43 जैसे एस्टेरॉयड भी गुजरेंगे, लेकिन किसी से कोई खतरा नहीं है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!