बढ़ती महंगाई की चिंगारी माचिस को भी लगी, दोगुने हुए माचिस के दाम

नई दिल्ली | 14 साल बाद बड़े माचिस के दाम, 2007 मे 50 पैसे से बढ़कर 1 रुपये किया गया था. इस बीच माचिस की डिब्बी तीलिया जरूर कम होती गई किंतु माचिस के दाम स्थिर बने रहे. माचिस निर्माता कंपनीया 1 दिसंबर से माचिस की डिब्बी की कीमत में दोगुना इजाफा करने जा रही है.

matchstick

सभी किसी ना किसी काम में माचिस का प्रयोग करते हैं. चाहे वह पूजा के लिए करते हो, या रसोई घर में चूल्हा जलाने के लिए, या फिर बर्थडे कैंडल जलाने के लिए क्यों ना करते हो. लेकिन बाकी वस्तुओं की तरह ही माचिस की डिब्बी के दाम भी अब 2 रूपये होने वाले हैं.

दक्षिण भारत में माचिस उद्योग से जुड़े 5 संगठनों ने एक साथ मिलकर माचिस की कीमत बढ़ाने की घोषणा की है। इंडस्ट्री के प्रतिनिधियों ने सर्वसम्मति से 1 दिसंबर से माचिस के दाम 1 रुपये से बढ़ाकर 2 रुपये करने का फैसला लिया है. माचिस की कीमत में वृद्धि का फैसला इसी सप्ताह को शिवकाशी में ऑल इंडिया चैंबर ऑफ मैचेस की बैठक में लिया गया.

यह भी पढ़े -   सर्दियों में मोटरसाइकिल पर ठंड से बचने का ये है सबसे सस्ता तरीका, जाने क्या

माचिस की कीमतें बढ़ने के पीछे का कारण

उद्योग के प्रतिनिधियों के अनुसार कच्चे माल की कीमतों मैं हाल ही में वृद्धि हुई है, जिसके कारण किनके बढ़ानी पड़ रही है. निर्माताओं ने डीजल की बढ़ती कीमत को मुख्य कारण माना है. माचिस बनाने के लिए 14 प्रकार के कच्चे माल की जरूरत होती है. एक किलोग्राम लाल फास्फोरस ₹425 से बढ़कर ₹810 हो गया है. इसी तरह मॉम ₹58 से बढ़कर ₹80, डिब्बी का गत्ता ₹36 से ₹55 और भीतरी बॉक्स बोर्ड ₹32 से  58 रुपये तक पहुंच गया है. कागज, पोटेशियम क्लोरेट और सल्फर की कीमत में भी 10 अक्टूबर से वृद्धि हुई है.

यह भी पढ़े -   सरसों के तेल में 67 रुपए तक की हुई बढ़ोतरी, जानिए अब किस रेट पर मिलेगा Mustard Oil

थोक कीमतें भी बढ़ेगी

नैशनल स्मॉल मैचबॉक्स मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन के सचिव वीएस सेथुरथिनम ने बताया है कि माचिस के प्रत्येक बॉक्स में 50 तीलियां होती हैं. माचिस निर्माता 600 माचिस  का एक बंडल 270 रुपये से लेकर 300 रुपये तक में बेच रहे हैं. लेकिन अब बिक्री मूल्य 430 से 480 रुपये प्रति बंडल करने का फैसला किया है. इसमें 12 प्रतिशत जीएसटी और परिवहन की लागत शामिल नहीं है.

यह भी पढ़े -   हरियाणा सरकार ने मुख्य सचिव के पद पर संजीव कौशल को किया नियुक्त, पीके दास को बनाया एससीआर

शायद ही ऐसी कोई वस्तु होगी जिसकी कीमतें बढ़ती महंगाई के कारण ना बढ़ी हो. महंगाई के चलते ही माचिस की डिब्बी के दाम भी दोगुनी हो गये. हालांकि निर्माताओं द्वारा इसका कारण कच्चे माल की कीमतों में बढ़ोतरी को बताया तथा डीजल के बढ़ते दामों के कारण भी माचिस की डिब्बी के दाम में बढ़ोतरी हुई है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!