संयुक्त किसान मोर्चा ने भारत बंद का फैसला लिया वापस, जानिए क्या है कारण

नई दिल्ली | हाल ही में भारत बंद का फैसला संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने 31 जुलाई को लिया था. एसकेएम के इस फैसले से भारतीय किसान संघ (चढूनी ग्रुप) पहले से ही भाग रहा था. ऐसे में उन्होंने पहले ही इसमें हिस्सा नहीं लेने का फैसला कर लिया था.

bharat bandh

अब एसकेएम ने भी भारत बंद का फैसला वापस ले लिया है. दो दिन पहले एसकेएम द्वारा अपने पदाधिकारियों और सदस्यों को भेजे गए संदेश में बताया गया था कि 31 जुलाई त्योहार का दिन है. ऐसे में इस दिन भारत बंद का फैसला वापस लिया जाता है. इसके लिए दोबारा फैसला लेने के बाद सभी को इसकी जानकारी दी जाएगी.

31 जुलाई को भारत बंद का आह्वान किया गया

गौरतलब है कि किसान आंदोलन के दौरान केंद्र सरकार द्वारा तय न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी समेत कई अन्य मांगों को अब तक पूरा नहीं किया गया है. इन मांगों की अनदेखी का आरोप लगाते हुए एसकेएम ने 31 जुलाई को भारत बंद का आह्वान किया था. युवा किसान नेता संजीव आलमपुर ने बताया कि यह फैसला दो दिन पहले वापस ले लिया गया है.

यह भी पढ़े -   मशहूर कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव एम्स में भर्ती, राजू को पड़ा दिल का दौरा

5 अगस्त की किसान महापंचायत की तैयारियों में जुटा चाढूनी समूह

दूसरी ओर, भारतीय किसान यूनियन ने पहले ही एक वीडियो जारी कर एसकेएम से अलग होने की घोषणा की है. ऐसे में उन्होंने पहले ही भारत बंद से दूरी बना ली है. भाकियू चढूनी समूह के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश बैंस ने कहा कि वह 5 अगस्त को बरहडा में आयोजित किसान महापंचायत की तैयारियों में लगे हुए हैं. शामलात की जमीन किसानों को दी जाए. इसके लिए किसान महापंचायत बुलाई गई है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!