Haryana Weather News: इस बार मानसून का अलग ही प्रदर्शन, आने में जल्दी, जाने में देरी

हिसार । हरियाणा में इस बार मानसून ने अलग ही प्रदर्शन किया है. इस बार मानसून हरियाणा में 15 जून से पहले दस्तक दे चुका था. तब से लेकर अभीतक मॉनसून ने हरियाणा में अच्छी बारिश की है. सितंबर में बारिश ने रिकॉर्ड तोड़ दिया था, अभी तक हरियाणा में सामान्य से 30 फीसदी बारिश हो चुकी है. लेकिन बड़ी बात ये है कि इस समय मानसून हरियाणा में समय से पहले ही आ गया था इस बीच जल्दी जाने की उम्मीद थी लेकिन लेट सितंबर के बाद ही जायेगा. आमतौर पर 20 सितंबर के आसपास मानसून चले जाता है लेकिन अबकी बार अक्टूबर के पहले सप्ताह में जाने के कयास लगाए जा रहे हैं.

यह भी पढ़े -   Haryana Weather Alert: आज और कल कई जिलों में बारिश के आसार,40-50 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से चलेगी हवाएं

badal cloud

हरियाणा में अभी भी और बारिश हो सकती है. मौसम विज्ञानियों ने अभी से ही ऐसे हालात दर्शा दिए हैं. मौसम विज्ञानियों की मानें तो अगले तीन चार दिन तक मौसम अस्थिर रहेगा. इस दौरान बादल व कहीं-कहीं गरज चमक होने की संभावना है. इन तीन चार दिनों तो बारिश की कम ही उम्मीद है. अगर मानसून के कारण अब बारिश हुई तो किसानों को और भी नुकसान होने के आसार हैं. इससे पहले ही मानसून की बारिश ने किसानों को भारी नुकसान पहुंचाया है. कपास, मूंग, ग्वार, धान तक में किसानों को नुकसान हुआ है.

पिछले कुछ दिनों में हिसार जिल में अधिक बारिश आने की वजह से अधिक नमी बढऩे के कारण ग्वार फसल में फंगस रोग दुबारा उभर कर आ रहा है. यह बीमारी बढ़ने से किसानों की चिन्ता होना वजिब है. इस तरह का मौसम कई सालों बाद बना है. ग्वार की फसल में बारिश का अलग ही प्रभाव दिख रहा है. कई स्थानों पर फंगस रोग से ग्वार ग्रसित हो गई है. इसके साथ ही किसान अगर इस पर दवा स्प्रे भी कर रहे हैं तो यह फसलों को नुकसान पहुंचा रही है. क्योंकि दवा खरीदने से पहले किसानों ने जानकारी ही नहीं ली कि कौन सी दवा लेनी है. नमी बहुत ज्यादा बढ़ जाने के कारण ग्वार के पत्ते काले पड़ने शुरू हो गये है, इसलिए किसानों को सलाह दी जाती है कि जिन किसानों ने फंगस की रोकथाम के लिए कोई भी या एक स्प्रे किया उनको इस बीमारी की रोकथाम के लिए तुरंत स्प्रे करने की सलाह दी गई है.

गौरतलब हैं हरियाणा में अबकी बार समय से पहले ही मानसून आ गया था और इस दौरान अच्छी-खासी बारिश भी हुई है. लेकिन बड़ी बात ये है की अब मॉनसून के कारण और अधिक बारिश हुई तो किसानों को और ज्यादा नुकसान हो सकता है. इससे पहले भी मानसून की बारिश ने किसानों को भारी भरकम नुकसान पहुंचाया है. कपास, मूंग, ग्वार, धान तक में किसानों को नुकसान हुआ है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!