CBSE Board Exams 2021: एग्ज़ाम रद्द होने के बाद अब सब्जेक्ट सिलेक्शन की टेंशन

नई दिल्ली। सेंट्रल बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन (CBSE) ने 10वीं की बोर्ड की परीक्षाओं को रद्द कर दिया है और सभी विद्यार्थियों को अगली कक्षा में प्रमोट करने का फैसला लिया है. अब विद्यार्थियों के मन में इस चीज को लेकर संशय बना हुआ है कि 11वीं कक्षा में वह किस आधार पर अपने सब्जेक्ट को सेलेक्ट करें. अब विद्यार्थी अपने सब्जेक्ट सिलेक्शन को लेकर चिंता में हैं.

CBSE

सीबीएसई बोर्ड के द्वारा दसवीं की परीक्षाओं को रद्द किए जाने की घोषणा के पश्चात अब विद्यार्थी अगली कक्षा में प्रमोट होने पर अपने सब्जेक्ट के सिलेक्शन को लेकर चिंता में हैं. उन्हें इस बात की टेंशन है कि क्या उन्हें उन का मनपसंद सब्जेक्ट मिल पाएगा.

यह भी पढ़े -   खुशखबरी: अब हरियाणा के कॉलेजों में वैकल्पिक विषय के रूप में मिलेगी NCC

आपको बता दें कि पहले विद्यार्थी अपनी रूचि और इच्छा व दसवीं के परीक्षा परिणाम और विषयों में प्राप्त अंकों के बेस पर 11वीं में अपने सब्जेक्ट को चुनते थे. परंतु इस बार तो परीक्षा होगी ही नहीं और दसवीं का परीक्षा परिणाम किस क्राइटेरिया के बेस पर दिया जाएगा यह भी अभी स्पष्ट नहीं हो पाया है.

रायपुर के सेंट्रल स्कूल केंद्रीय विद्यालय में पढ़ने वाली एक छात्रा प्रसिद्धि नागलकर के अनुसार सब्जेक्ट सिलेक्शन जिंदगी का एक सबसे महत्वपूर्ण फैसला होता है. परंतु अधिकतर औसत विद्यार्थी सब्जेक्ट को चुनने से पहले इस बात को महत्व देते हैं कि उनके द्वारा चुना गया विषय उनके इंटरेस्ट का हो. इसके साथ ही उस विषय में उसके मार्क्स भी अच्छे आए हो. परंतु इस बार ऐसा नहीं होगा जिससे विद्यार्थियों की कठिनाई बढ़ जाएंगी.

यह भी पढ़े -   HBSE Result 2021: हरियाणा बोर्ड 10वीं कक्षा का परीक्षा परिणाम इस दिन होगा जारी

इसी प्रकार एक छात्र प्रशांत शर्मा कहते हैं कि कोरोना संक्रमण के कारण एग्जाम कैंसिल हो गए, यह एक अच्छी बात है, क्योंकि एग्जाम देने में संक्रमण का खतरा हो सकता था. लेकिन अब अगली क्लास के लिए विषयों को चुनना विद्यार्थियों के लिए एक नई टेंशन बन गई है.

यह भी पढ़े -   अब सरकारी स्कूलों में दाखिले के लिए नहीं चाहिए SLC, निजी स्कूलों को झटका

पेरेंट्स संघ के अध्यक्ष दिनेश शर्मा के अनुसार फीस और अन्य मामले में प्राइवेट स्कूलों की मनमानी देखने को मिलती है. तो अब यदि एक साथ बड़ी संख्या में विद्यार्थी किसी एक विषय में रूचि दिखाएंगे तब इस मसले पर प्राइवेट स्कूलों की मनमानी का खामियाजा विद्यार्थियों को भुगतना पड़ सकता है.

करियर काउंसलर अजीत वरवंडकर इस मुद्दे पर कहते हैं कि कोई भी विद्यार्थी अपने अंको को आधार बनाकर अपने विषय को ना चुने, बल्कि अपनी अभिरुचि, अपने व्यक्तित्व और ऑक्यूपेशनल थीम के बेस पर ही अपने विषय का चुनाव करें, क्योंकि यह भविष्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!