Haryana College Admission: पहली मेरिट सूची में ही एडमिशन ले लें छात्र, वरना नहीं हो पाएगा कॉलेज में दाखिला

फरीदाबाद |  हरियाणा के कॉलेजों में स्नातक स्तर पर दाखिले के लिए प्रथम वर्ष की मेरिट लिस्ट आने के बाद विद्यार्थी कॉलेजों में फीस भुगतान के लिए पहुंच रहे हैं. पहली कट ऑफ लिस्ट को देखने के बाद कॉलेजों में दाखिले के लिए मारामारी रही.

Girl Students

हरियाणा उच्च शिक्षा विभाग की ओर से सोमवार 12 सितंबर को कॉलेजों में प्रथम वर्ष के दाखिले के लिए फाइनल मेरिट लिस्ट जारी की. जिसमें 112353 विद्यार्थियों को स्नातक स्तर के प्रथम वर्ष की कक्षा में प्रवेश मिला. इन विद्यार्थियों को 18 सितंबर तक शुल्क जमा करना होगा. दूसरी मेरिट सूची की 21 सितंबर को प्रकाशित की जाएगी. इस सूची के बाद 28 से ओपन काउंसलिंग शुरू होगी. कॉलेजों में दाखिले के लिए इस साल की मेरिट लिस्ट की कट ऑफ काफी अधिक देखने को मिल रही है.

फाइनल मेरिट लिस्ट आने के बाद कई तरह की बातें सामने आ रही हैं. विभाग द्वारा पहले जारी की गई प्रोविजनल (अस्थाई) मेरिट लिस्ट में नाम देखकर कई छात्र खुश हुए लेकिन फाइनल मेरिट लिस्ट में नाम नही होने पर छात्र नाखुश नजर आए और इसकी शिकायत करने कॉलेज पहुंचे.

वहीं दूसरी ओर, छात्र अपने पसंद के कॉलेज में नाम नहीं आने की शिकायत प्रशासन और दाखिला के नोडल अधिकारियों को कर रहे हैं. अधिकतर विद्यार्थी नोडल अधिकारियों को कॉल करके‌ या स्वयं विश्वविद्यालय में पहुंचकर इस बारे में जानकारी प्राप्त कर रहे हैं. छात्रों का कहना है कि पसंद की महाविद्यालय की मेरिट लिस्ट में नाम न आकर दूसरे महाविद्यालय की सूची में आया है, तो क्या वे पहले लिस्ट को छोड़कर दूसरे लिस्ट में नाम आने का इंतजार करें.

यह भी पढ़े -   रोजगार विभाग हरियाणा में अब प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करवाएगा, ग्रामीण युवाओ का अधिक रुझान

इस सवाल का जवाब देते हुए राजकीय महाविद्यालय सेक्टर-9 के दाखिला नोडल अधिकारी ने छात्रों को जानकारी दी कि जिस भी महाविद्यालय की पहली मेरिट सूची में नाम आया है, उस में दाखिला ले लें, क्योंकि मेरिट सूची उच्च शिक्षा विभाग की ओर से तैयार की जा रही है. ऐसे में स्पष्ट नहीं कहा जा सकता कि दूसरी मेरिट सूची में छात्र का नाम आएगा या नहीं, क्योंकि दूसरी मेरिट सूची में नाम नहीं आने के कारण छात्र महाविद्यालय में दाखिला नहीं ले पाएंगे.

यह भी पढ़े -   यूपीएससी परीक्षा में हरियाणा का दबदबा, महेंद्रगढ़ की ममता को 5वीं और देवियानी को मिली 11वीं रैंक

विषय संयोजन को लेकर आ रही दिक्कत

छात्रों के अच्छे अंक होने के बावजूद पहली पसंद के महाविद्यालय में नाम न आने का मुख्य कारण ऑनलाइन आवेदन करते समय विषयों का चयन मुख्य कारण नजर आ रहा है. दरअसल आवेदन करते समय काफी छात्रों ने विषयों का चयन करके अपनी पसंद के महाविद्यालयों में विकल्प भर दिया, लेकिन महाविद्यालय में संकाय का विषय संयोजन नहीं बन पाया तो अन्य दूसरे महाविद्यालय की सूची में छात्र का नाम आ गया. इस मामले को लेकर नोडल अधिकारी सरिता सिरा ने बताया कि कई छात्रों ने पहली पसंद की महाविद्यालय में संकाय का जो विषय संयोजन चुना है, वह उन विषयों में कोर्स एक महाविद्यालय में नहीं होने के कारण दूसरे महाविद्यालय की मेरिट सूची में छात्रों का नाम आया है. ऐसे में छात्रों को पहली मेरिट सूची में नाम आने पर दाखिला ले लेना चाहिए.

यह भी पढ़े -   हरियाणा पैरा ओलंपिक खिलाड़ियों के सम्मान में पैसों की बारिश, 19 खिलाड़ियों में वितरित हुई 27 करोड़ की धनराशि

जानकारी के लिए बता दें कि हरियाणा के कुल 229 कॉलेजों में प्रवेश की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है. विभाग द्वारा 16 अगस्त को प्रवेश के लिए पोर्टल को खोला गया था जिस पर पंजीकरण की अंतिम तिथि 6 सितंबर थी. प्रवेश पोर्टल पर कुल 196764 विद्यार्थियों ने पंजीकरण करवाया जिनमें से 178534 विद्यार्थियों ने फीस, दस्तावेज आदि अपलोड करवा कर अपने आवेदन पत्र पूरे कर लिए हैं. पहली मेरिट लिस्ट 12 सितंबर को प्रकाशित हो चुकी है और दूसरी मेरिट लिस्ट 21 सितंबर को जारी की जाएगी.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!