एक अफवाह ने हरियाणा- राजस्थान के कई लोगों को किया मालामाल, कई हुए कंगाल, जानिए क्या है मामला

सिरसा । ग्वार का बुलबुला फूट चुका है. इस बुलबुले ने जहां कई लोगों को मालामाल कर दिया तो वहीं इसके फूटते ही कई लोग अपनी किस्मत को दोष दें रहें हैं. पिछले दो दिनों में बंपर तेजी लेने के बाद ग्वार का भाव अब लगातार फर्श पर आता जा रहा है. आदमपुर में वीरवार सुबह ग्वार 6500 रुपए से लेकर 6900 रुपए प्रति क्विंटल बिका. ये भाव एक दिन पहले की तुलना में हजार रुपए कम था. लेकिन शाम को हुई बोली में ग्वार ने एक बार फिर अपना रंग बदला और भाव 7200 रुपए प्रति क्विंटल तक पहुंच गया. वहीं सिवानी मंडी में ग्वार का भाव 7710 रुपए प्रति क्विंटल रहा. जबकि सिरसा में भाव 6000 से 6830 रुपए प्रति क्विंटल रहा.

यह भी पढ़े -   रेलवे का बड़ा फैसला, ट्रेनों मे स्लीपरो की जगह लगेगे थर्ड एसी इकोनामी कोच

Kisan 2

राजस्थान में ग्वार का भाव

  • भामाशाह कोटा अनाज मंडी- 6000-8200
  • रावतसर मंडी- 5600-6500
  • राजगढ़ मंडी- 6600-7500
  • नोहर मंडी- 5500-7525
  • अबोहर मंडी-7000

अफवाह के कारण आई तेजी

ब्रोकर बलबीर ने बताया कि ग्वार के दामों में अचानक आई तेजी का आधार केवल और केवल अफवाह था. अफवाह का एक दौर होता है,जोकि 1-2 चलता है. वह दौर निकल चुका है. अब हरियाणा राजस्थान में ग्वार की कीमत नीचे आने की ही संभावना है. वहीं व्यापारी अनुज गोयल ने बताया कि किसी भी फसल की तेजी की वजह कच्चे माल की कमी या प्रोडक्शन की ज्यादा मांग पर निर्भर करता है. फिलहाल समय में न तो देश में ग्वार की कमी है और न ही ग्वार पाउडर की ज्यादा मांग है. इस तेजी की प्रमुख वजह किसानों द्वारा विभिन्न अफवाहों का शिकार होकर लाई गई थी. ऐसी स्थिति पहली बार सामने आई है कि व्यापारियों ने अपना स्टॉक कम किया और किसानों ने ग्वार की जमकर खरीदारी की.

यह भी पढ़े -   कल हरियाणा में मनाया जाएगा ‘वर्ल्ड कार फ्री डे’, CM खट्टर चलाएंगे साईकिल

इन अफवाहों का शिकार हुएं किसान

ब्रोकर सतपाल, प्रमोद व मोतीलाल गोयल ने बताया कि ग्रामीणों में अफगानिस्तान में तख्तापलट की वजह से अफवाह चली कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ग्वार की मांग बढ़ रही है. ग्वार की फसल पाकिस्तान में भी खराब हो चुकी है, ऐसे में ग्वार के भाव आने वाले 15-20 दिनों में 35-40 रुपए तक पहुंचेगा. इसी अफवाहों के चलते किसानों ने जमकर ग्वार की खरीददारी की.
ब्रोकर प्रमोद ने बताया कि आढ़तियों द्वारा मना करने के बावजूद भी किसान लगातार ऊंचे भाव में ग्वार खरीदते रहें . अब खरीदने वाले नहीं हैं, ऐसे में कीमत लगातार नीचे आ रही है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!