लॉकडाउन में भी अपने गानों से देश-विदेश में धूम मचा रहा है खासा आला चाहर

हिसार । कहते हैं बुलंद हौसलों व सच्ची लगन से काम किया जाएं तो किसी भी मंजिल पर आसानी से पहुंचा जा सकता है. दो साल के अपने छोटे से दौर में एक बहुत ही छोटे से गांव व साधारण परिवार में जन्मे एक युवा ने देश-विदेश में अपने टेलेंट से तहलका मचा रखा है. खासा आला चाहर के नाम से प्रसिद्ध अभिषेक चाहर की पहचान केवल हरियाणा प्रदेश तक ही नहीं अपितु देश-विदेश तक हर वर्ग के लोगों के दिल में बनी हुई है. उनके गानों का जादू हर किसी के सिर चढ़कर बोल रहा है.
खासा आले चाहर उर्फ अभिषेक चाहर एक बहुत ही साधारण परिवार से ताल्लुक रखते हैं.

यह भी पढ़े -   धर्म की आड़ में अधर्म का खेल, नाबालिग लड़की को लेकर भागा बाबा, 5 महीने की गर्भवती मिलीं लड़की

khasa aala chahar

परिवार का मुख्य व्यवसाय आज भी खेती-बाड़ी ही है. पिता हिसार जिला न्यायालय में नौकरी करते हैं तो माता हाउस वाइफ है. पिता की नौकरी हिसार होने के कारण वो लंबे समय से परिवार सहित हिसार में ही रहते हैं. इग्नू से ग्रेजुएशन करने के बाद उन्होंने संगीत की दुनिया का रुख किया और अपने गानों की चमक से अपनी अलग पहचान बनाई. अभिषेक (खासा आला चाहर) ने बताया कि उनकी चाहत थी कि उनके गानों के दम पर हरियाणवी संस्कृति को अलग पहचान मिलें, जिसके लिए वो दिन-रात मेहनत कर रहे हैं.

ऐसे हुई शुरुआत

अभिषेक चाहर ने बताया कि स्कूल समय से ही उन्हें गाने लिखने का शौक था. उनके द्वारा शुरुआती दौर में लिखें गए गाने जाट -जाटनी, हथकड़ आदि थे. लेकिन इन गानों से कोई बहुत अधिक रिस्पॉन्स नहीं मिला.

यह भी पढ़े -   Hisar Airport: 10 हजार फीट लंबा बन रहा रनवे, मिट्टी में सीमेंट का घोल मिलाकर किया जा रहा तैयार

इन गानों से मिली दुनिया में पहचान

अभिषेक चाहर (खासा आला चाहर) ने बताया कि लेखनी के बाद उन्होंने खुद का लिखा गाना फादर साहब गाया. इस गाने को प्रदेश ही नहीं अपितु देश विदेश में भी बहुत सा प्यार मिला. यह गाना हर आयु वर्ग के लोगों की पसंद बना. इसके बाद उन्होंने अपने चाहने वालों के लिए एक के बाद एक कई गानों से मंत्रमुग्ध किया जिनमें मां -माई, रौला चौधर का,डीजे ना रोक दियों,फील,गोरा रंग, आर्मी की वर्दी, कॉलेज लाइफ,यार हरियाणे त,जय -वीरू, लूट लिया आदि प्रमुख हैं. हाल ही में रिलीज हुआ उनका गाना “लूट लिया” को तो दर्शकों ने इतना अधिक प्यार दिया है कि वो बता नहीं सकते. अभिषेक (खासा आला चाहर) ने बताया कि उन्होंने हर गाना हरियाणवी संस्कृति व सभ्यता को उपर रखतें हुए गाया है ताकि दर्शकों को पसंद आ सकें.

यह भी पढ़े -   हिसार में बुजुर्ग दंपती ने ज़हर निगल कर दे दी जान, जानिए क्या लिखा सुसाइड नोट में?

युवाओं को दी कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने की सलाह

अपनी काबिलियत के दम पर लाखों युवाओं के दिलों पर राज करने वाले अभिषेक चाहर ने कोविड प्रोटोकॉल को लेकर अपने चाहने वालों को सलाह दी है कि वे कोविड गाइडलाइंस का पालन करें व घर पर रहें. खुद भी सेफ रहे व परिवार को भी इस महामारी से सुरक्षित रखें.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!