आज है मार्गशीर्ष अमावस्या, भूलकर भी ना करें ये पांच गलतियां अन्यथा भुगतना होगा अंजाम

नई दिल्ली | आज मार्गशीर्ष अमावस्या है. बता दें कि इस माह के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को मार्गशीर्ष अमावस्या कहा जाता है. इसे अगहन अमावस्या भी कहते हैं, इस दिन पितरों की आत्मा की शांति के लिए तर्पण और पिंडदान करने की परंपरा है. ऐसा माना जाता है कि अमावस्या की रात भूत- प्रेत, पिशाच और निशाचर जैसी नकारात्मक शक्तियां काफी सक्रिय होती है इसलिए आपको भूलकर भी अमावस्या वाले दिन कुछ गलतियां नहीं करनी चाहिए.

samoti amawas 2021

भूलकर भी ना करें यह पांच गलतियां

शमशान से दूर रहे: अमावस्या की रात को गलती से भी आप शमशान या उसके आसपास से होकर ना जाए. अमावस्या की रात में सुनसान सड़कों पर जाने से भी बचना चाहिए. ऐसा माना जाता है कि अमावस्या पर कमजोर दिल के लोग नकारात्मक शक्तियों के प्रभाव में जल्दी आ जाते हैं इसलिए ऐसे लोगों को विशेष सावधानी बरतने की आवश्यकता है.

लड़ाई झगड़ा: अमावस्या के दिन घर में लड़ाई- झगड़ा करने से बचना चाहिए. ऐसा मानना है जिस घर में लड़ाई झगड़े होते हैं वहां पर कभी भी पितरों की कृपा नहीं होती. इसलिए इस दिन आपको घर में शांति का वातावरण बनाए रखने की कोशिश करनी चाहिए. इस दिन ना तो क्रोध करें और ना ही किसी से अपशब्द कहे.

यह भी पढ़े -   Vastu Tips: रात को सोने से पहले जरूर करें यह काम, नहीं होगी जीवन में कभी पैसों की कमी

देर तक न सोए: अमावस्या के दिन देर तक सोने से बचना चाहिए. ऐसा करने से पितरों का आशीर्वाद नहीं मिल पाता. इस दिन सुबह जल्दी उठकर सूर्य देव को जल अर्पित करना अच्छा होता है.

तामसिक भोजन: मार्गशीर्ष अमावस्या पर तामसिक चीजों का सेवन बिल्कुल भी ना करें. इस दिन खाने में लहसुन, प्याज का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. वहीं, मांस- मछली और मदिरापान आदि से भी दूर रहना चाहिए.

यह भी पढ़े -   2023 के शुरू होते ही इन राशि के जातकों की चमकेगी किस्मत, 17 जनवरी से इस राशि में गोचर कर रहे शनि देव

शारीरिक संबंध: अमावस्या के दिन पति-पत्नी को शारीरिक संबंध बनाने से बचना चाहिए. ऐसा मानना है कि चौदस, अमावस्या और प्रतिपदा तीन ऐसी तिथियां होती है, जब हमें तन और मन दोनों से पूर्णतया पवित्र रहना चाहिए.

मार्गशीर्ष अमावस्या 23 नवंबर यानी कि आज सुबह 6:53 से शुरू हो चुकी है, जो गुरुवार को सुबह 4:26 तक रहेगी. धर्म ग्रंथों के अनुसार, इस दिन गंगा या अन्य पवित्र नदियों में स्नान करने से आपको पितरों का आशीर्वाद प्राप्त होता है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!