SYL के मुद्दे पर दुविधा में फंसे अरविंद केजरीवाल, किस राय से जनता के बीच मांगेंगे वोट

चंडीगढ़ | दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) के संयोजक अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) के लिए हरियाणा में सतलुज- यमुना लिंक SYL (एसवाईएल) सिरदर्द साबित हो रहा है. पंजाब में सत्ता हासिल करने के बाद हरियाणा में अपनी सियासी जमीन मजबूत करने में जुटे केजरीवाल के लिए एसवाईएल का मुद्दा चुनौती बन गया है. अभी तक पार्टी इस मामले पर पंजाब और हरियाणा के लिए कोई एक राय नहीं बना पाई है.

SYL Canal

वहीं इस बीच कुरुक्षेत्र में आप पार्टी के राज्यसभा सांसद सुशील गुप्ता के एक बयान से प्रदेश की राजनीति में बवाल खड़ा हो गया है. उन्होंने दावा करते हुए कहा है कि 2024 में हम हरियाणा में सत्ता हासिल कर रहे हैं और 2025 में एसवाईएल नहर का पानी हरियाणा के हर क्षेत्र में पहुंचाएंगे. यह हम गारंटी नहीं, वादा करते हैं. वहीं उनके इस बयान पर हरियाणा में राजनीतिक दलों कांग्रेस, भाजपा ने अरविंद केजरीवाल की घेराबंदी तेज कर दी है.

बता दें कि हरियाणा और पंजाब के बीच एसवाईएल नहर को लेकर कई दशकों से विवाद चल रहा है. केन्द्र से लेकर मामला सुप्रीम कोर्ट तक भी गया, कोर्ट ने फैसला हरियाणा के हक में सुनाया था लेकिन हरियाणा आज भी अपने हक के पानी के लिए इंतजार कर रहा है.

यह भी पढ़े -   गर्मियों में जरुर करें इन 5 फलों का सेवन, मौसमी बीमारियों से रहेगा बचाव

केजरीवाल के लिए एक ओर दुविधा खड़ी हो गई है कि पंजाब में हाल ही में उनकी पार्टी ने सरकार बनाई हैं और हरियाणा में सरकार बनाने की चाहत है. पंजाब में सरकार बनते ही हरियाणा में आप पार्टी के कुनबे में दूसरी पार्टी के नेताओं के शामिल होने का सिलसिला जारी है. लेकिन अब एसवाईएल के मुद्दे पर पार्टी फंस गई है. वहीं पंजाब में सरकार बनते ही मुख्यमंत्री भगवंत मान ने भी पिछली सरकारों की तर्ज पर हरियाणा को पानी न देने का राग अलापना शुरू कर इस मुद्दे को और हवा दे दी है.

यह भी पढ़े -   हरियाणा: अगले 3 घंटे के अंदर इन इलाकों में होगी बारिश, मौसम विभाग ने दी जानकारी

किस राय के साथ जनता के बीच जाए

केजरीवाल के लिए अब यह मुश्किल है कि वो किस राय के साथ हरियाणा की जनता से वोट मांगने जाएं. उनके सामने दुविधा है कि वह हरियाणा के हक की बात करें या पंजाब की क्योंकि केजरीवाल खुद हरियाणा के बाशिंदे है. वहीं सांसद सुशील गुप्ता पहले ही कह चुके हैं कि 2024 के विधानसभा चुनावों में हरियाणा में आम आदमी पार्टी की सरकार बनेगी और इसके बाद पंजाब और हरियाणा के बीच एसवाईएल मुद्दे का समाधान किया जाएगा.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!