हरियाणा का मुर्रा नस्ल का भैंसा राका बना नेशनल चैम्पियन, यहाँ पढ़े राका की लग्जरी लाइफ के किस्से

राेहतक | जिले में आयोजित पशुपालन प्रतियोगिता में हरियाणा के मुर्रा नस्ल का झोटा (भैंसा) राष्ट्रीय चैम्पियन बना. राका से पहले उसके दादा आलटाइम विजेता थे और उसके पिता भी 7 बार के राष्ट्रीय चैंपियन थे. झोटा राका की जिंदगी भी पूरी लग्जरी है. वह रोज सुबह 4 किमी टहलता है. इसके बाद वह 5 लीटर दूध पीता है. साथ ही, 9 किलो चारा भी खाता है. जिसमें सोयाबीन, चना और बिनौला के साथ मेवे भी शामिल हैं. राका की हाइट 5.6 फीट और वजन 1,300 किलो है.

Murrah Bhainsa Rohtak

राका बना नेशनल चैंपियन

गांव डोभ निवासी रविंद्र कुमार ने बताया कि उन्होंने मुर्राह नस्ल का कटड़ा पाल रखा है, जिसका नाम राका है. वह 19 दिसंबर को चार साल का हो जाएगा. राका का जन्म घर में ही हुआ है और वह कई बार नेशनल चैंपियन रह चुका है. मां रामो 24 लीटर दूध देती थी. इसके पिता अर्जुन भी ऑल इंडिया चैंपियन रह चुके है. यहां तक ​​कि अर्जुन के पिता खली और दादा शेरा भी चैंपियन रह चुके हैं. रविंद्र ने बताया कि उन्हें जानवर पालने का शौक है. उसे राका से बहुत लगाव है इसलिए वह उसे बेचना नहीं चाहता.

सरताज 7 बार और सूर्या 3 बार रहा इंडिया चैंपियन

भिवानी के तालू गांव निवासी सुमेश कुमार ने बताया कि वह मुर्राह नस्ल के दो झोटे प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए लाए हैं. जिनके नाम सूर्या और सरताज हैं. सरताज 7 बार इंडिया चैंपियन और सूर्या 3 बार इंडिया चैंपियन रह चुका हैं. उसकी उम्र करीब 6 साल है. दोनों का जन्म घर में हुआ है.

यह भी पढ़े -   पाताल लोक में हाथी राम का निभाया था किरदार, अब इस फिल्म में दिखेगा हरियाणा का छोरा

रोजाना पीते हैं 10-15 लीटर दूध

सुमेश कुमार तालू ने बताया कि वह अपने झोटों को रोजाना 10-15 लीटर दूध देता हैं. इसके साथ ही मिक्स फीड भी डाला जाता है, जिसमें गुड़ और तेल आदि डाला होता है. इनमें से सरताज के पिता सम्राट तालू 28 बार इंडिया चैंपियन रह चुके हैं, जो 31 लाख में बिका. उसने बताया कि सूर्या की मां 26 लीटर दूध देती थी जबकि सरताज की मां 27.80 लीटर दूध देती थी. उनके झोटे पर 21 लाख रुपए की बोली लगी लेकिन अब वह इसे बेचना नहीं चाहते.

यह भी पढ़े -   पाताल लोक में हाथी राम का निभाया था किरदार, अब इस फिल्म में दिखेगा हरियाणा का छोरा

पशुपालन का है शौक

सुमेश तालु ने बताया कि पहले उसके पिता पशु पालते थे. उन्हें भी पशुपालन का शौक है. अब वह पिछले 15 साल से पशुपालन कर रहे हैं. वर्तमान में उसके पास 15 पशु हैं, जिनमें से 3 झोटे हैं. उन्होंने झोटे केवल सीमन बेचने के लिए रखा है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!