बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का असर, बेस्ट विलेज स्कीम में चुना गया सोनीपत का ये गांव

सोनीपत | पानीपत की धरती से शुरू हुआ ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ अभियान रंग ला रहा है. अभियान के तहत हरियाणा सरकार द्वारा कई कदम उठाए जा रहे हैं. जिनमें लिंगानुपात को सुधारने के साथ ही उनको पढ़ाने के लिए भी प्रोत्साहित किया जा रहा है.

Girl Students

 सुधरा लिंगानुपात

बता दें कि हरियाणा सरकार ने ट्वीट कर जानकारी दी है कि 1470 लिंगानुपात के साथ सोनीपत का गांव खोरड़ बेस्ट विलेज स्कीम के तहत चुना गया है.

क्या है इस योजना का मकसद

22 जनवरी 2015 को पानीपत, हरियाणा में प्रधान मंत्री द्वारा बेटी बचाओ बेटी पढाओ की शुरुआत की गई थीथी. बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना जीवन भर बाल लिंगानुपात में गिरावट को रोकने में मदद करती है और महिलाओं के सशक्तिकरण से संबंधित मुद्दों का समाधान करती है. यह योजना तीन मंत्रालयों यानी महिला एवं बाल विकास मंत्रालय, स्वास्थ्य मंत्रालय, परिवार कल्याण मंत्रालय और मानव संसाधन मंत्रालय द्वारा कार्यान्वित की जा रही है.

यह भी पढ़े -   28 अगस्त को विकास की नई इबारत लिखेगा हरियाणा, पीएम मोदी रखेंगे Maruti व सुजुकी प्लांट की आधारशिला

इस योजना के मुख्य घटकों में पहले चरण में पीसी और पीएनडीटी अधिनियम का कार्यान्वयन, राष्ट्रव्यापी जागरूकता और प्रचार अभियान और चयनित 100 जिलों (जहां बाल लिंगानुपात कम है) में विभिन्न क्षेत्रों से संबंधित कार्य शामिल हैं. जमीनी स्तर पर प्रशिक्षण, सुग्राहीकरण और जागरूकता और सामुदायिक लामबंदी के माध्यम से लोगों की मानसिकता बदलने पर जोर दिया जा रहा है. एनडीए सरकार बालिकाओं के प्रति समाज के रवैये में परिवर्तन लाने का प्रयास कर रही है. जिसका असर होते भी दिख रहा है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!